शब्द चित्र-NH -30 से

रविवार, 22 जनवरी 2012


3 टिप्पणियाँ:

  1. केवल राम : ने कहा…:

    सब कुछ एक साथ .....!

  1. Kumar Gaurav Ajeetendu ने कहा…:

    बहुत रोचक। आनंद आ गया। मेरे ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित हैं। पसंद आनेपर सदस्य के रूप में शामिल होकर अपना स्नेह अवश्य दें। सादर

  1. Kavita Rawat ने कहा…:

    दूध के साथ भूसा भी ..फिक्र एक साथ लेकिन जान जोखिम का काम है भैया यह ...

एक टिप्पणी भेजें

कोई काम नहीं है मुस्किल,जब किया ईरादा पक्का।
मै हूँ आदमी सड़क का,-----मै हूँ आदमी सड़क का

 
NH-30 © 2011 | Designed by NH-30